Monday, 7 January 2019

समस्याओं से मुक्ति पाने के लिए किस देवी-देवता की उपासना करनी चाहिए...आइए जानते हैं

ऐसी मान्यता है कि हर व्यक्ति के एक ईष्टदेव या देवी होती हैं. उनकी उपासना करने से व्यक्ति को जीवन में उन्नति प्राप्त होती है. इनका निर्धारण लोग कुंडली के आधार पर करते हैं. वास्तव में ग्रहों का और ज्योतिष का ईष्टदेव से सम्बन्ध नहीं होता है, बल्कि ईष्टदेव या देवी का निर्धारण आपके जन्म जन्मान्तर के संस्कारों से होता है. बिना किसी कारण के ईश्वर के जिस स्वरूप की तरफ आपका आकर्षण हो, वही आपके ईष्ट देव हैं. ग्रह कभी भी ईश्वर का निर्धारण नहीं करते हैं. हालांकि, ग्रहों की समस्या को दूर करने के लिए विशेष देवी देवताओं की उपासना की जा सकती है
अपनी विशेष समस्याओं के लिए किस देवी देवता की उपासना करें?
मानसिक समस्याओं के निपटारे के लिए शिवजी की उपासना करें.
शारीरिक दर्द और चोट चपेट की समस्या के लिए हनुमान जी की उपासना करें.
शीघ्र विवाह के लिए पुरुष मां दुर्गा की उपासना करें.
शीघ्र विवाह के लिए महिलाएं भगवान शिव की उपासना करें.
बाधाओं के नाश के लिए भगवान गणेश की पूजा करें
धन के लिए मां लक्ष्मी की उपासना करें.
मुक्ति मोक्ष या आध्यात्मिक उपलब्धि के लिए भगवान कृष्ण या भगवान शिव की उपासना करें.
किस ग्रह की समस्या के लिए किस देवी देवता की उपासना करें?
सूर्य के लिए या तो सूर्य की उपासना करें या गायत्री मंत्र का जाप करें.
चन्द्रमा के लिए भगवान शिव की उपासना करना उत्तम होगा.
मंगल के लिए कुमार कार्तिकेय या हनुमान जी की उपासना करें.
बुध के लिए मां दुर्गा की उपासना करें.
बृहस्पति के लिए श्रीहरि की उपासना करें.
शुक्र के लिए मां लक्ष्मी या मां गौरी की उपासना करें.
शनि के लिए श्रीकृष्ण या भगवान शिव की उपासना करें.
राहु के लिए भैरव बाबा की उपासना करें.
केतु के लिए भगवान गणेश की उपासना करें.

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.