Sunday, 20 May 2018

CM पद साझा करने की कर्नाटक में कांग्रेस से कोई डील नहीं हुई: कुमारस्वामी

CM पद साझा करने की कर्नाटक में कांग्रेस से कोई डील नहीं हुई: कुमारस्वामी

कर्नाटक में महज ढाई दिन में ही बीजेपी की सरकार गिरने के बाद राज्यपाल वजुभाई वाला ने कांग्रेस-जेडीएस गंठबंधन को सरकार बनाने का न्योता दिया. जिसके बारे में शनिवार को कुमारस्वामी ने पत्रकारों से बात करते हुए बताया था. कुमारस्वामी ने आज बताया कि जेडीएस कांग्रेस के साथ मुख्यमंत्री पद साझा नहीं करेंगी. उन्होंने बताया कि बीती रात कांग्रेस के नेताओं के साथ हुई बैठक में यह बात फाइनल कर ली गई है. कुमारस्वामी ने यह भी बताया कि राज्य में डिप्टी सीएम का पद कांग्रेस के उम्मीदवार को दिया जाएगा. साल 2007 में बीजेपी और जेडीएस के बीच सीएम पद को साझा करने की डील हुई थी.
कर्नाटक में साल 2007 में  बीजेपी-जेडीएस गठबंधन सरकार 20 महीने बाद ही गिर गई थी. कुमारस्वामी  पर सत्ता-साझाकरण समझौते का सम्मान करने में विफल रहने का आरोप भी लगा था. उनपर आरोप लगा था कि जब बीजेपी के प्रत्याशी का सीएम बनने की बारी आई तो वह मुकर गए थे, जिसके बाद बीजेपी-जेडीएस गठबंधन सरकार टूट गई थी. यह पूछे जाने पर कि क्या उनकी पार्टी के साथ कांग्रेस के साथ एक समान समझौता है, तो  कुमारस्वामी ने इसका जवाब नकारात्मक दिया. कर्नाटक चुनाव के नतीजे आने के बाद कांग्रेस ने कुमारस्वामी की पार्टी जेडी (एस) को बिना शर्त समर्थन की पेशकश की थी, जब दोनों पार्टियां बीजेपी को सत्ता से बाहर रखने के लिए मंगलवार को वोटों की गिनती के दौरान आखिरी मिनट की साझेदारी की थी.
बीएस येदियुरप्पा ने सदन में विश्वास मत हासिल किए बिना ही अपने इस्तीफे का ऐलान कर दिया, जिसके बाज कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन को सरकार बनाने का न्योता मिला.  बहुमत हासिल करने में असमर्थ बीजेपी पर कांग्रेस और जेडीएस के विधायकों के खरीद- फरोख्त का आरोप भी कांग्रेस ने लगाया था.वहीं, बीजेपी ने कांग्रेस और डेजीएस गठबंधन को अपवित्र बताते हुए कहा कि ऐसी सरकारें ज्यादा दिन नहीं टिक पाती हैं. कांग्रेस और जेडीएस के बीच साल 2004 में आखिरी बार गठबंधन हुआ था.

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.