Sunday, 26 April 2020

गरज-चमक के साथ बारिश और तेज अंधड़ के साथ गिरे ओले



अम्बिकापुर। झारखंड बिहार और उत्तरी छत्तीसगढ़ के बीच द्रोणिका व चक्रीय चक्रवात के असर से शनिवार देर रात जमकर बारिश हुई। तेज हवा और गर्जना के बीच अंबिकापुर सहित आसपास के इलाके में कुछ जगहों पर ओलावृष्टि भी हुई।


तेज हवा के असर से कई जगहों पर पेड़ और डंगाल टूट कर गिरने से घंटों बिजली बंद रही। द्रोणिका की लगातार सक्रियता से उत्तरी छत्तीसगढ़ सहित सरगुजा संभाग के इलाके में खराब मौसम से लोगों को राहत नहीं मिल पा रही है। शनिवार को भी अंबिकापुर सहित आसपास के इलाके में तेज हवा के बीच बारिश हुई। लेकिन इसके बाद मौसम साफ होने से लोगों को कुछ राहत मिली थी। लेकिन देर रात करीब 2.30 बजे फिर से तेज हवा और गर्जना के साथ जमकर बारिश हुई।
बारिश का दौर तड़के चार बजे तक जारी रहा। शहर से लगे खैरवार और आसपास के इलाकों में जमकर ओलावृष्टि भी हुई और एक-दो जगहों पर पेड़ गिरने से सड़क पर आवागमन भी प्रभावित रहा। रात भर में अम्बिकापुर में 26 मिमी बारिश दर्ज की गई। अप्रैल के आखिरी दिनों में यह एक रिकॉर्ड है। रविवार को भी खराब मौसम से लोगों को राहत नहीं मिली है।
सुबह से हल्की बारिश हो रही है। आसमान घने बादलों से ढंका हैं। लगातार बारिश होने से तापमान में गिरावट दर्ज की गई है और न्यूनतम तापमान 18 डिग्री तक पहुंच गया है। बेमौसम बारिश से इलाके में गेहूं की फसल चौपट हो गई है। किसान इन दिनों गेहूं की फसल कटाई कर रहे हैं और कई किसान फसल को काटने के बाद खलिहान में भी रखे हुए हैं। लगातार हो रही बारिश से किसानों की फसल बर्बाद हो गई है।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.