Monday, 17 February 2020

बस्तर में कुपोषण से जंग के बीच 4 महीने से आंगनबाड़ी केन्द्रों में नहीं मिल रहा दूध



बस्तर ! छत्तीसगढ़ सरकार बस्तर से कुपोषण को खत्म करने के लिए जंग लड़ रही है. इसके लिए सरकार द्वारा करोड़ों रुपए खर्च भी जा रहे हैं, लेकिन हकीकत के आईने में हालातों की जो तस्वीरें दिखाई दे रही हैं, उससे लगता नहीं है कि बस्तर से कुपोषण की जंग कभी खत्म होगी. जगदलपुर जिले के कई आंगनबाड़ी केन्द्र, जिनमें कुछ शहर के केन्द्र भी शामिल हैं, उनमें पिछले चार महीने से अमृत दूध की सप्लाई ठप है.
बस्तर के कई आंगनबाड़ी केन्द्रों में शासन के तय मेन्यू के अनुसार भोजन बच्चों को नहीं दिया जा रहा है. जगदलपुर शहर के आंगनबाड़ी केन्द्रों की पड़ताल में ये बात सामने आई है कि भगत सिंह वार्ड में स्थित आंगनबाड़ी क्रमांक 2 में पिछले चार महीने से दूध की सप्लाई बंद है. ये हाल शहर के आंगनबाड़ी केन्द्र का है तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि ग्रामीण अंचलों में चलने वाले आंगनबाड़ी केन्द्रों के हाल क्या होंगे. अमूमन जिले सभी आंगन बाड़ी केन्द्रों का हाल यही है. योजना के मुताबिक आंगन बाड़ी केन्द्र में आने वाले तीन से छह साल के बच्चों को महीने में एक दिन सौ मिली लीटर दूध दिया जाना है.

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.