Friday, 17 January 2020

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में हाथकरघा वस्त्रों की बनी अलग पहचान



मुख्यमंत्री के नेतृत्व में राज्य के हाथकरघा वस्त्रों की अंतर्राष्ट्रीय बाजार में अपनी अलग पहचान बनी है। नई सरकार के गठन के बाद प्रदेश के हाथकरघा वस्त्रों को राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय बाजार में लोकप्रिय बनाने तथा बुनकरों को विपणन सुविधा उपलब्ध कराने के लिए सितंबर 2019 को रायपुर में अंतर्राष्ट्रीय क्रेता-विक्रेता सम्मेलन का आयोजन किया गया था। इस क्रेता-विक्रेता सम्मेलन के माध्यम से राज्य के हाथकरघा वस्त्रों की अंतरराष्ट्रीय बाजार में अपनी एक अलग पहचान बनी है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार की मांग के अनुरूप हाथकरघा वस्त्रों के लिए टाइटन तनेइरा‘, बैंगलोर, पैरामून इंडस्ट्रीज मुंबई, मध्यप्रदेश हस्तशिल्प विकास बोर्ड भोपाल, एकगांव टेक्नालॉजी गांधीनगर, फेडरेशन ऑफ नेपाल कॉटेज एवं स्माल इंडस्ट्रीज काठमांडू से एम.ओ.यू. किया गया है।
ग्रामोद्योग विभाग के अधिकारियों ने बताया कि पिछले एक वर्ष में छत्तीसगढ़ राज्य हाथकरघा विकास एवं विपणन सहकारी संघ मर्यादित रायपुर द्वारा स्कूल शिक्षा विभाग को गणवेश आपूर्ति के माध्यम से हाथकरघा बुनकरों को बुनाई के साथ-साथ गणवेश वस्त्र सिलाई से 725 महिला एवं स्व-सहायता समूह की लगभग 8 हजार 700 महिलाओं को रोजगार दिलाया है। इस कार्य के पारिश्रमिक के रूप में 30 करोड़ 82 लाख रुपए का भुगतान किया गया है। राज्य के हाथकरघा बुनकरों द्वारा उत्पादित वस्त्र 170 करोड़ 97 लाख रुपए के वस्त्रों की विभिन्न शासकीय विभागों में आपूर्ति की गई है। हाथकरघा के 560 हितग्राहियों को नवीन बुनाई प्रशिक्षण हेतु एक करोड़ 90 लाख रुपए की वित्तीय सहायता दी गई और 640 बुनकरों के कौशल प्रशिक्षण हेतु एक करोड़ 15 लाख रुपए की सहायता दी गई है।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.