Monday, 18 November 2019

जेएनयू में फीस बढ़ोतरी विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है



नई दिल्ली ! जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के छात्रों के संसद मार्च के चलते राजधानी दिल्ली के कई इलाकों में जाम लग गया है। छात्रों और पुलिस की सड़कों पर भारी मौजूदगी के चलते आवाजाही प्रभावित है। दिल्ली मेट्रो के 4 स्टेशनों को भी अस्थायी रूप से बंद कर दिया गया है यानी यहां ट्रेनें नहीं रुक रही हैं और एंट्री व एग्जिट गेट भी बंद हैं। दिल्ली पुलिस की सलाह पर दिल्ली मेट्रो ने लोक कल्याण मार्ग स्टेशन को भी बंद कर दिया है। दरअसल, इसी रोड पर प्रधानमंत्री का आवास है। जेएनयू में फीस बढ़ोतरी के विरोध में छात्रों के संसद मार्ग की तरफ कूच को देखते हुए मेट्रो की यलो लाइन के उद्योग भवन, पटेल चौक और केंद्रीय सचिवालय स्टेशनों को भी पुलिस ने ऐहतियातन बंद करवा दिया है।

सड़क यातायात और मेट्रो सेवा प्रभावित
केंद्रीय सचिवालय पर केवल इंटरचेंज किया जा सकता है, स्टेशन के अंदर-बाहर आने-जाने के लिए आवाजाही रोक दी गई है। पटेल चौक और उद्योग भवन मेट्रो स्टेशन पर मेट्रो रुक भी नहीं रही हैं। इसके अलावा दक्षिणी दिल्ली में अरविंदो मार्ग और रिंग रोड भी जाम है, एम्स और सफदरजंग हॉस्पिटल के चारों तरफ जाम लगा हुआ है।
हिरासत में लिए गए छात्रों को छुड़ाने की कोशिश
जेएनयू स्टूडेंट सफदरजंग मकबरे के बाहर इकट्ठा हो गए हैं। इसकी वजह से अरविंदो मार्ग पर ट्रैफिक रोक दिया गया है। सफदरजंग रोड, तुगलक रोड, लोक कल्याण मार्ग भी बंद कर दिए गए हैं। हिरासत में लिए गए स्टूडेंट्स को छुड़ाने के लिए तुगलक रोड थाने के नजदीक छात्र पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं। 'आजादी' वाले नारे भी लगाए जा रहे हैं। पुलिस ने सफदरजंग मकबरे के पास छात्रों को रोका तो वहीं पर वे धरने पर बैठ गए और नारेबाजी कर रहे हैं। फिलहाल हंगामा थमने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं।
संसद और जेएनयू के पास लगी धारा 144
आज छात्र संसद तक पैदल मार्च निकाल रहे हैं। छात्रों को संसद तक नहीं पहुंचने देने के लिए पुलिस फोर्स तैनात है। संसद और जेएनयू के आसपास धारा 144 लगा दी गई है। दूसरी तरफ केंद्र सरकार जेएनयू विवाद को जल्द खत्म करने की कोशिशें भी कर रही है। इसके लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने एक कमिटी बनाई है।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.