Friday, 11 October 2019

400 व्यापारी व उद्योगपति राजधानी में 22 अक्टूबर को जुटेंगे



प्रदेश में व्यापार एवं उद्योग में आने-वाली अड़चनों व रुकावटों को दूर करने के उद्देश्य से 22 अक्टूबर को राजधानी के मिंटो हॉल (पुरानी विधानसभा) में बिजनेस डेवलपमेंट मीट रखी गई है। कॉनफेडरेशन ऑफ एमपी फॉर इडस्ट्री सर्विसेज एज ट्रेड (कॉम्पिस्ट) द्वारा आयोजित बैठक में प्रदेश भर के करीब 400 ऐसे व्यापारी व उद्योगपति जुटेंगे, जो कॉम्पिस्ट के सदस्य हैं।
कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री कमलनाथ शामिल होंगे। इसमें राज्य सरकार के प्रमुख अधिकारी भी उपस्थित रहेंगे। सभी मिलकर व्यापार व उद्योग बढ़ाने के लिए मंथन करेंगे।व्यापारियों, व्यवसायियों, बिल्डरों, उद्योगपतियों से प्रदेश में व्यापार करने को लेकर आने वाली समस्याएं पूछी जाएंगी। राज्य शासन की ओर से समस्याओं का निराकरण कराया जाएगा।
ताकि मप्र पड़ोसी राज्यों से उद्योग क्षेत्र में आगे बढ़ सके। कॉम्पिस्ट के अध्यक्ष गोविंद गोयल व महासचिव संजय बूलचंदानी ने बताया कि कॉम्पिस्ट का गठन हुए अभी 9 महीने 11 दिन ही हुए हैं।गुरुवार को 50 माईक्रोन से अधिक के प्लास्टिक के इस्तेमाल पर लगने वाला जुर्माना खत्म कराया गया है। अब प्रदेश में 50 माईक्रोन से पतली पॉलीथिन का उपयोग करने पर ही व्यापारियों व उद्योगपतियों के खिलाफ कार्रवाई होगी।
इसके अलावा ट्रांसपोर्ट नगर में बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराने सहित व्यापारियों व उद्योगपतियों से जुड़ी समस्याओं का निराकरण किया गया। अब प्रयास है कि प्रदेश में उद्योग बढ़े और बेरोजगार युवाओं को रोजगार के अवसर मिलें। इसके लिए बिजनेस डेवलपमेंट मीट का आयोजन रखा गया है। जब एक मंच पर मुख्यमंत्री, प्रदेश सरकार के आला अधिकारी व व्यापारी, उद्योगपति उपस्थित होंगे, तभी समस्याओं का जल्द निराकरण हो सकेगा।
इस दौरान व्यापारियों व उद्योगपतियों की समस्याओं का शासन स्तर पर निराकरण कराया है। हाल ही में सिविल सप्लाइज कॉर्पोरेशन के नए ऑनलाइन सॉफ्टवेयर द्वारा 200 करोड़ के बिजनेस पर कुल पेनाल्टी 123 करोड़ हो रही थी। कॉम्पिस्ट ने ट्रांसपोर्टरों की इस समस्या का निराकरण कराया। ट्रांसपोर्टरों की अन्य मांगों को शासन स्तर पर पूरा कर हड़ताल समाप्त कराई।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.