Tuesday, 19 March 2019

भाजपा किसी भी सीट को लेकर एक राय नहीं ,सीटवार पैनल तैयार किए



प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे ने बैठक के बाद ये जानकारी दी। उन्होंने बताया कि, प्रदेश चुनाव समिति की बैठक में सभी 29 सीटों पर दावेदारों के नामों को लेकर चर्चा हुई। इसी आधार पर एक सूची बनाई गई है। इसे लेकर प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह आज ही दिल्ली रवाना हुए। जहां केंद्रीय चुनाव समिति ये तय करेगी कि कौन सा उम्मीदवार किस सीट से मैदान में उतरेगा।
 * सूची लेकर दिल्ली रवाना हुए प्रदेशाध्यक्ष
इससे पहले प्रदेश चुनाव समिति की बैठक में शामिल होने के लिए आज सुबह प्रदेश प्रभारी डॉ विनय सहस्त्रबुद्धे, डॉ अनिल जैन और केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत विशेष विमान से भोपाल पहुंचे थे। वहीं प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के अलावा प्रदेश भाजपा और संगठन से जुड़े कई आला नेता बैठक में मौजूद रहे।
लगभग सभी सीटों पर दावेदारों की लंबी सूची को देखते हुए इनकी छंटनी कर प्रत्येक सीट पर तीन नामों की पैनल तैयार की गई। इसे पार्टी के प्रदेश प्रभारी डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे, प्रदेश प्रभारी स्वतंत्रदेव सिंह और संघ के क्षेत्र प्रचारक दीपक विस्पुते ने अंतिम रूप दिया।
रायशुमारी में मिले फीडबैक बना आधार
चार दिन पहले ही पार्टी की चुनाव प्रबंध समिति ने सभी 29 सीटों को लेकर रायशुमारी की थी। इस बैठक में  पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव सहित अन्य वरिष्ठ नेताओं शामिल थे। आज संपन्न बैठक में रायशुमारी के दौरान मिले फीडबैक पर चर्चा हुई। इसके बाद ही नामों की छंटनी कर सीट वार पैनल तैयार किए गए।
दस सीटों पर नए चेहरे उतारने की तैयारी
पार्टी प्रदेश क ी करीब दस लोकसभा सीटों पर नए चेहरों को मौका दे सकती है। वहीं, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की सीट में भी बदलाव के आसार हैं। माना जा रहा है,कि उन्हें ग्वालियर की जगह मुरैना से मैदान में उतारा जा सकता है। वहीं एक नाम चौंकाने वाला है। यह है मौजूदा राज्यसभा सांसद व पार्टी के उपाध्यक्ष प्रभात झा। पार्टी झा को शिवपुरी से अपना उम्मीदवार बना सकती है। ,हालांकि अंतिम फैसला दिल्ली में ही होगा।  पैनल में मौजूदा सांसदों के नाम भी शामिल किए गए। किसे दोबारा टिकट देना है किसे नहीं, ये सर्वे के आधार पर केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में तय होगा।
भोपाल, इंदौर, विदिशा  को लेकर कश्मकश
पार्टी सूत्रों के अनुसार, इस बार भोपाल, इंदौर और विदिशा सीट के लिए प्रत्याशियों की घोषणा में समय लग सकता है। दरअसल, पार्टी इन सीटों पर करीब तीन दशकों से लगातार जीतती आ रही है। कांग्रेस की मंशा इन तीनों सीटों पर मजबूत उम्मीदवार उतारने की है। मुख्यमंत्री कमलनाथ इस बात के संकेत दे चुके हैं। कांग्रेस की इस रणनीति को देख भाजपा को भी अब अपनी रणनीति में बदलाव करना पड़ा है। माना जा रहा है,कि पार्टी विपक्षी उम्मीदवारों के चेहरे सामने आने पर ही इन सीटों पर अपने उम्मीदवार घोषित करेगी।
रोडमल नागर का फिर हुआ विरोध
पूरे प्रदेश से टिकट के दावेदारों ने समर्थकों के साथ भाजपा कार्यालय के बाहर डेरा जमाया हुआ है। इस बीच राजगढ़ सांसद रोडमल नागर के खिलाफ कार्यकर्ता भाजपा कार्यालय पहुंचे और उन्होंने नागर को दोबारा टिकट न देने की मांग रखी। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने सांसद नागर  के खिलाफ नारेबाजी भी की।

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.