Tuesday, 5 February 2019

उत्कृष्ट विद्यालय परिसरों में छात्र-छात्राओं के लिये बनेंगे छात्रावास, निर्माण पर खर्च होंगे 316 करोड़

41 जिलों में छात्रावास निर्माण पर खर्च होंगे 316 करोड़
लोक निर्माण विभाग द्वारा स्कूल शिक्षा विभाग के अंतर्गत 41 जिला मुख्यालयों में संचालित छात्र-छात्राओं के लिये 82 छात्रावासों बनाये जाएंगे। इस कार्य पर करीब 316 करोड़ 11 लाख रुपये की राशि खर्च की जायेगी। भोपाल के शिवाजी नगर स्थित सुभाष उत्कृष्ट विद्यालय में स्कूल शिक्षा विभाग की इस योजना में छात्रावासों का पूर्व से ही संचालन किया जा रहा है। लोक निर्माण मंत्री  सज्जन सिंह वर्मा ने मंजूर किये गये सभी छात्रावास भवनों के निर्माण कार्यों को गुणवत्ता के साथ नियत समय में पूरा किये जाने के निर्देश दिये हैं। प्रदेश के 41 चयनित जिलों में कक्षा-10वीं की बोर्ड परीक्षा में श्रेष्ठ अंक हासिल करने वाले विद्यार्थियों को प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता दिलाने के लिये स्कूल शिक्षा विभाग ने उत्कृष्ट विद्यालय परिसर में छात्रावास संचालन की योजना बनाई है। जिला मुख्यालय के उत्कृष्ट विद्यालय परिसर में 100-100 सीटर क्षमता के बालक-बालिका छात्रावास निर्मित किये जा रहे हैं। बालक छात्रावास 3 करोड़ 85 लाख और बालिका छात्रावास करीब 3 करोड़ 86 लाख रुपये लागत से निर्मित होंगे। लोक निर्माण विभाग की परियोजना क्रियान्वयन इकाई द्वारा निर्मित छात्रावास सर्व-सुविधायुक्त होंगे। इनमें लायब्रेरी, कम्प्यूटर लैब, ट्रेनिंग सेंटर और प्रसाधन-कक्ष होंगे। छात्रावासों को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि विद्यार्थियों को पढ़ाई के लिये उचित वातावरण मिल सके। उत्कृष्ट विद्यालय के सभी स्वीकृत कार्यों की निविदाएँ आमंत्रित कर ली गई हैं। जिन 41 जिलों में यह छात्रावास मंजूर हुए हैं, उनमें अशोकनगर, बालाघाट, बैतूल, भिण्ड, बुरहानपुर, छतरपुर, छिन्दवाड़ा, दमोह, दतिया, देवास, गुना, ग्वालियर, हरदा, होशंगाबाद, इंदौर, जबलपुर, कटनी, खण्डवा, मंदसौर, मुरैना, नरसिंहपुर, नीमच, पन्ना और रायसेन शामिल हैं। इसी तरह, राजगढ़, रतलाम, रीवा, सागर, सतना, सीहोर, सिवनी, शाजापुर, श्योपुर, शिवपुरी, सीधी, सिंगरौली, टीकमगढ़, उज्जैन, उमरिया और विदिशा में भी यह छात्रावास मंजूर किये गये हैं।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.