Friday, 15 February 2019

ईधन और ऊर्जा का संरक्षण प्रत्येक नागरिक की जिम्मेदारी: राज्यपाल श्रीमती पटेल

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय का सक्षम- 2019 कार्यक्रम सम्पन्न
   
राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा है कि ईधन और ऊर्जा का प्रभावी संरक्षण प्रत्येक नागरिक की जिम्मेदारी है। हमारा देश प्राकृतिक संसाधनों के दोहन के साथ-साथ आयात पर भी निर्भर है, जिसमें पेट्रोलियम पदार्थ एक महत्वपूर्ण घटक है। राज्यपाल भारत पेट्रोलियम, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम, गेल और इंडियन आयल के समन्वित प्रयासों से 16 जनवरी से 15 फरवरी तक आयोजित सक्षम-2019 के समापन कार्यक्रम को संबोधित कर रही थीं। राज्यपाल ने कहा कि देश में लगभग 20 प्रतिशत पेट्रोलियम पदार्थों का उत्पादन होता है। शेष 80 प्रतिशत दूसरे देशों से आयात किया जाता है, जो हमारे आर्थिक पक्ष को प्रभावित करता है। इसलिये उत्पादक और उपभोक्ताओं के हितों के बीच संतुलन आवश्यक है। उन्होंने कहा कि तेल कम्पनियों के साथ-साथ हम सभी को पेट्रोलियम पदार्थों के समुचित उपयोग के बारे में सोचना चाहिए। इस अवसर पर राज्यपाल ने एक महीने के संरक्षण महोत्सव के इस वर्ष के स्लोगन 'ईधन संरक्षण की जिम्मेदारी-जन गण की भागीदारी' की सराहना करते हुए कहा कि इन प्रयासों से ऊर्जा संरक्षण को बल मिलेगा और जागरूकता बढ़ेगी। नागरिक ईधन की बचत के प्रति अपने दायित्वों को समझेंगे। इंडियन ऑइल के स्टेट कार्डिनेटर बी.सतीश कुमार ने बताया कि इंदौर में 27 जनवरी को लगभग पचास हजार लोगों ने साइकिल रैली में भाग लेकर विश्व रिकार्ड बनाया है। प्रति वर्ष एक माह के लिये आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम में पेंटिंग, वाद-विवाद, साइकिल रैली, कार रैली और क्विज आयोजित कर लोगों में ईधन संरक्षण के प्रति जागरूकता विकसित करने के कार्य किए जाते हैं। सक्षम- 2019 के समापन कार्यक्रम में प्रदेश के विभिन्न शहरों में आयोजित वाद-विवाद और पेंटिंग प्रतियोगिता के विजयी प्रतिभागियों को राज्यपाल ने स्मृति चिंह एवं प्रमाण पत्र दिये। पेट्रोलियम कन्जरवेशन रिसर्च एसोसिएशन के डी.जी.,एम एस.के. हलधर ने पूर्व में आयोजित कार्यक्रमों का प्रजेन्‍टेशन दिया।

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.