Saturday, 16 February 2019

मंत्री सिलावट द्वारा जबलपुर जिला चिकित्सालय का औचक निरीक्षण

अस्पताल में दवाओं की कमी मिली, तो सिविल सर्जन और सी.एच.ओ. होंगे जिम्मेदार
लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसीराम सिलावट ने कहा है कि सिविल सर्जन और जिलों के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को सभी अस्पतालों में सभी दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिये गये हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें आज जबलपुर जिला चिकित्सालय के औचक निरीक्षण में पूरी दवाएँ नहीं मिलने की कुछ मरीजों की शिकायत प्राप्त हुई थी। सिलावाट ने मौके पर ही संबंधित मरीजों को दवाइयाँ उपलब्ध करवाई और निर्देश दिये कि अस्पतालों में अब दवाइयों की कमी नहीं रहना चाहिये। दवाइयों की कमी मिलने पर सिविल सर्जन और सी.एम.एच.ओ. सीधे जिम्मेदार होंगे। मंत्री सिलावट ने रानी दुर्गावती चिकित्सालय (एलगिन) और जिला चिकित्सालय (विक्टोरिया) का औचक निरीक्षण किया। श्री सिलावट ने अस्पताल परिसर में मिली गन्दगी पर नाराजगी जाहिर की। चिकित्सालय के वार्ड ओपीडी आदि में पर्याप्त साफ-सफाई थी। उन्होंने कहा कि जैसी सफाई हॉस्पिटल के अन्दर है, वैसी बाहर भी होनी चाहिये। सभी वाटर कूलर में आरो लगायें। अस्पताल की ओव्हर हेड पानी की टंकियों की नियमित सफाई की जाये। मंत्री सिलावट ने ओपीडी रजिस्ट्रेशन काउण्टर और दवाई वितरण कक्ष में लम्बी लाइन को देखकर कहा कि काउण्टर बढ़ाये जायें। एन.आर.सी. में बिस्तरों के बीच में पर्याप्त अन्तर रखा जाये। चिकित्सालय में सिटी स्केन, एमआरआई, ईको कार्डियोग्राफी की जाँच सुविधा उपलब्ध कराने की कार्यवाही की जाये। सिलावट ने अस्पताल में मरीजों और उनके परिजन से भी चर्चा की। उन्होंने व्यवस्थाओं के संबंध में चिकित्सकों से भी जानकारी प्राप्त की।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.