Thursday, 21 February 2019

पुलवामा इफेक्टः अब सड़कों पर ऐसे निकलेगा सुरक्षा बलों का एक नए काफिला

पुलवामा हमले के बाद घाटी से दो तस्वीरें सामने आईं. कायदे से ये दोनो तस्वीरें एक नए काफिले की शुरुआत हैं. सबसे पहले पहली तस्वीर की बात. कश्मीर घाटी में जब भी हमारे जवानों का काफिला सड़क पर होगा तो उसके आसपास भी अब किसी दूसरी गाड़ी को फटकने की इजाजत नहीं होगी. यहां तक कि अगर किसी ने काफिले को ओवरटेक करने या काफिले के बीच में आने की कोशिश की तो इसे विद्रोह माना जाएगा. एक बार सेना का काफिला हाईवे पर पहुंच गया तो फिर आम ट्रैफिक तब तक रुकी रहेगी जब तक कि काफिला गुजर नहीं जाता अब सेना की हर गाड़ी की छत पर हथियार से लैस जवान होगा. लाल झंडा दिखा कर रास्ता क्लियर करने का इशारा करेगा. क़ाफिले के साथ-साथ माइंस प्रोटेक्टेड गाड़ी भी होगी. क़ाफ़िला गुज़रने के दौरान आम गाड़ियों की मूवमेंट पर रोक होगी. पुलवामा हमले के बाद सेना के क़ाफ़िले के साथ आजतक की टीम ने किया सफर वो जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे था. जो 295 किलोमीटर लंबा है. जम्मू से कश्मीर घाटी जाने और घाटी से जम्मू आने का इकलौता रास्ता. इस नेशनल हाईवे के माइल स्टोन नंबर 272 के करीब ही 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर हमला हुआ था इस नेशनल हाईवे समेत घाटी के अलग-अलग हिस्सों में लगभग हर रोज़ सेना और सुरक्षा बलों की सैकड़ों गाड़ियां गुज़रती हैं. और इन गुजरती गाड़ियों के साथ ही चलती हैं आम लोगों की भी गाड़ियां. और ऐसी ही एक गाड़ी 4 फरवकी को पुलवामा के करीब अचानक सामने आई और सीआरपीएफ के काफिले से जा टकराई थी. मगर पुलवामा हमले के बाद घाटी में सेना के काफिले की हिफाजत को लेकर अब कई तब्दीलियां की गई हैं. इन्हीं तब्दीलियों का गवाह बनी वारदात की टीम. हमारे सहयोगी गौरव सावंत उत्तरी कश्मीर में सेना के ऐसे ही एक काफिले के सफर के हमसफर बने अब सेना के काफिले के गुजरने दौरान रास्ते में या किसी भी मोड़ पर आम गाड़ियों के चलने पर तब तक रोक होगी जब तक कि काफिला वहां से गुजर नहीं जाता. इसमें लोगों को दस से बीस मिनट तक इंतजार करना पड़ सकता है. यानी अब जैसे ही सेना का काफिला हाईवे पर पहुंचेगा, सारी गाड़ियों रोक दी जाएंगी और लोगों के पैदल चलने पर भी रोक होगी रास्ता साफ होने के बाद सेना के इस काफिले के सबसे आगे माइंस प्रोटेक्टेड गाड़ी चल रही थी. ताकि किसी भी तरह के खतरे से वो निपट सके. हर गाड़ी की छत पर एक जवान हथियार लिए पूरे रास्ते पर पैनी निगाह रखे था. ताकि कोई भी आम गाड़ी या शख्स काफिले के बीच में या काफिले के सामने अचानक आने की कोशिश करे तो उसे रोका जा सके. जवान सीटी बजा कर और लाल झंडा दिखा कर भी आम गाड़ियों को रास्ते से हटने का इशारा दे रहे हैं सेना के काफिले के मुवमेंट को लेकर जो नई तब्दीलियां हुई हैं उसक मुताबिक सेना के हर काफिले के लिए अब डायनेमिक कॉनवॉय मुवमेंट रूल होगा. कोई सिविल गाड़ी उस दौरान रूट पर नहीं गुज़रेगी. सिविल गाड़ियों को रोकने की ज़िम्मेदारी पुलिस की होगी. लाल झंडा दिखाने का मतलब होगा जो गाड़ी जहां है वहीं रुक जाए. लाल झंडा क्रॉस करने वाली गाड़ियों को विद्रोही माना जाएगा. कॉनवॉय गुज़रने के दौरान 15 से 20 मिनट तक ट्रैफिक थमा रहेगा. आर्मी हाईवे डोमिनेशमन टीम हर कॉनवॉय को आगे, बीच में और पीछे से सुरक्षा देगी. कॉनवॉय के रास्ते में आना या ओवरटेक करने की कोशिश करने वाले को भी विद्रोही माना जाएगा दरअसल, अब तक सेना का काफिले के साथ ही आम गाड़ियां भी गुजरा करती थीं. हालांकि इसे लेकर पहले भी कई बार बात हुई कि सुरक्षा कारणों से सेना के काफिले के बीच में आम लोगों की गाड़ियों नहीं आनी चाहिएं. मगर दिक्कत सबसे ज्यादा जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे पर थी. यहां ट्रैफिक ज्यादा है और काफिले के लिए आम यातायात रोकना मुश्किल. लिहाज़ा एक विचार ये भी आया था कि सेना के काफिले का मूवमेंट रात के लिए ही सीमित कर दिया जाए. क्योंकि रात को अमूमन हाईवे पर ट्रैफिक बहुत कम होता है. लेकिन रात के सफर को लेकर कुछ दिक्कतें भी थीं इसलिए इस पर अमल नहीं हो पाया.

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.