Wednesday, 6 February 2019

दुग्ध संघ की कार्य-प्रणाली में प्रोफेशनलिज्म अपनायें

पशुपालन मंत्री यादव ने की समीक्षा
पशुपालन, मछुआ कल्याण एवं मत्स्य विकास मंत्री लाखन सिंह यादव ने कहा है कि दुग्ध संघ की कार्य-प्रणाली में प्रोफेशनलिज्म की झलक दिखनी चाहिये। दुग्ध संकलन की मात्रा में वृद्धि हो और ऐसे क्षेत्र, जहाँ से पशुपालकों से दुग्ध का संकलन नहीं किया जा रहा है, वहाँ से संघ द्वारा नये रूट बनाये जायें और नयी दुग्ध उत्पादक समितियाँ गठित कर दुग्ध संकलन किया जाये। उन्होंने कहा कि ग्वालियर संभाग में दुग्ध संकलन अपेक्षा से कम है। इस पर पर्याप्त ध्यान दिये जाने की जरूरत है। मंत्री यादव आज मंत्रालय में एम.पी. स्टेट को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन के कार्यक्रमों की समीक्षा कर रहे थे। अपर मुख्य सचिव, पशुपालन मनोज श्रीवास्तव, एम.डी., दुग्ध संघ अरुणा गुप्ता और संचालक, पशुपालन सहित अन्य अधिकारी बैठक में मौजूद थे।
दुग्ध संकलन क्षेत्र में नये रूट बनायें, नयी समितियाँ बनायें
मंत्री यादव ने कहा कि दुग्ध संघ ऐसे क्षेत्रों में अपनी पहुँच बनायें, जहाँ अभी वह दुग्ध संकलन नहीं कर रहा है। इसके लिये दुग्ध संकलन के नये रूट विकसित करे और इन क्षेत्रों में दुग्ध उत्पादन समितियों का गठन करे। ग्वालियर और जबलपुर संभाग में तुलनात्मक रूप से दुग्ध संकलन कम है, इसे बढ़ाया जाये। बैठक में बताया गया कि औसतन 10 लाख किलोग्राम से अधिक रोजाना दुग्ध संघ द्वारा दुग्ध का दुग्ध उत्पादक पशुपालकों से संकलन किया जा रहा है। दुग्ध संघ द्वारा विटामिन-ए एवं डी फोर्टीफाइड दूध भी इस माह से प्रारंभ किया गया है। दुग्ध संघ के प्लांट में उच्च गुणवत्ता के उत्पाद निर्माण की सुविधाएँ उपलब्ध करवाने, अत्याधुनिक प्रयोगशालाओं को स्थापित करने, संयंत्रों को ऑटोमेशन बनाने, कोल्ड चेन का विस्तार करने सहित अन्य बिन्दुओं पर भी बैठक में चर्चा की गयी। नेशनल प्रोग्राम फॉर डेयरी डेव्हलपमेंट योजना में चयनित 22 जिलों में योजना के क्रियान्वयन की भी समीक्षा की गयी। मंत्री यादव ने राज्य पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम के कार्यक्रमों और योजनाओं की भी समीक्षा की।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.