Thursday, 10 January 2019

HAL in cash crunch: एयरफोर्स के चलते संकट में हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स, 14,500 करोड़ रुपये बकाया

HAL in cash crunch: बीते कई दशकों में देश की दिग्गज हथियार निर्माता कंपनी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड ने ऐसा आर्थिक संकट नहीं देखा होगा। पिछले ही सप्ताह कंपनी के सीएमडी आर, कि कंपनी के पास कैश इन हैंड निगेटिव में है। कंपनी को 1,000 करोड़ रुपये का कर्ज ओवरड्राफ्ट के तौर पर लेना पड़ा है। यही नहीं हालात यह हैं कि कंपनी 31 मार्च तक 6,000 करोड़ रुपये के घाटे में होगी और यह स्थिति मुश्किल भरी होगी।उन्होंने स्पष्ट कहा था कि एचएएल दैनिक कामों के लिए तो कर्ज ले सकती है, लेकिन बड़े प्रॉजेक्ट्स पर काम कर्ज लेकर नहीं किया जा सकता। असल में हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के संकट में आने की वजह उसकी कार्यप्रणाली में कोई कमी या फिर घाटा होना नहीं है। इसकी वजह भारतीय वायु सेना की ओर से 14,500 करोड़ रुपये की पेमेंट रोका जाना है।31 दिसंबर तक एचएएल का 15,700 करोड़ रुपये एयरफोर्स पर बकाया था। सितंबर, 2017 से अब तक एयरफोर्स ने एचएएल को सिर्फ 2,000 करोड़ रुपये का भुगतान किया है। माधवन ने कहा कि एयर फोर्स पर 31 मार्च कक 20,000 करोड़ रुपये की रकम बकाया होगी।रक्षा मंत्रालय ने 2017-18 के बजट में एचएएल के लिए 13,700 करोड़ रुपये और 2018-19 में 33,715 करोड़ रुपये आवंटित किए थे। इसमें 2017-18 का पेंडिंग अमाउंट भी शामिल था। पेंडिंग अमाउंट के भी बजट में शामिल होने के चलते एचएएल के हिस्से में बहुत कम रकम मिली और वह संकट के दौर में है।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.