Thursday, 10 January 2019

उच्च शिक्षा के सतत विकास के लिये स्वयं का मापदंड निर्धारित करें-उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी

उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी ने कहा कि उच्च शिक्षा के सतत विकास के लिये स्वयं का मापदंड निर्धारित करना आवश्यक है। शिक्षा समाज का अभिन्न अंग है। उच्च शिक्षा के समुचित विकास के बिना प्रदेश और देश का विकास असंभव है। मंत्री पटवारी दो दिवसीय एसोसिएशन ऑफ इंडियन यूनिवर्सिटीज सेन्ट्रल जोन वाइस चांसलर्स मीट-2018-19 का रवीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय में शुभारंभ कर रहे थे।उच्च शिक्षा मंत्री पटवारी ने कहा कि उच्च शिक्षा के सतत विकास के लिये नये पैमाने तय करना होंगे, जिसमें प्रशिक्षण, अनुसंधान और विस्तारण प्रमुख है। देश और शिक्षा के भविष्य को आगे बढ़ाने के लिये परम्परागत शिक्षा प्रणाली के साथ आधुनिक व्यवस्थाओं को भी जोड़ना महत्वपूर्ण है। इस अवसर पर पटवारी ने 'यूनिवर्सिटी न्यूज' पत्रिका का विमोचन किया। दो दिवसीय आयोजन में ग्लोबल एण्ड नेशनल रैकिंग इन हायर एजुकेशन, सिनारियो ऑफ रिसर्च इन इंडियन यूनिवर्सिटी तथा क्वालिटी एश्योरेंस फॉर एक्सीलेंस एण्ड रेटिंग ऑफ हायर एजुकेशन पर विस्तृत चर्चा होगी।इस अवसर पर रवीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय के कुलाधिपति  संतोष चौबे, ए.आई.यू. के अध्यक्ष प्रो. संदीप संचेती, कुलपति आर.एन.टी.यू. प्रो. ए. के. ग्वाल उपस्थित थे।।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.