Tuesday, 22 January 2019

IDBI बैंक में LIC की हुई 51% फीसद हिस्सेदारी, अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी कर ली

IDBI Bank अब LIC के नियंत्रण में आ गया है. आईडीबीआई बैंक ने सोमवार को कहा है कि भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) ने बैंक की 51 फीसदी हिस्‍सेदारी के अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी कर ली है
सार्वजनिक क्षेत्र की भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) ने वित्तीय संकट के दौर से गुजर रहे आईडीबीआई बैंक में अपनी 51 फीसदी हिस्सेदारी का अधिग्रहण सौदा पूरा कर लिया है। इसके बाद बैंक में एलआईसी की अधिकांश हिस्सेदारी हो गई है। आईडीबीआई बैंक ने बीएसई फाइलिंग में जानकारी दी, " यह सौदा आईडीबीआई बैंक और एलआईसी दोनों के लिए अच्छा है। इससे आपसी सहयोग के जरिये दोनों इकाइयों के शेयरधारकों, ग्राहकों और कर्मचारियों के लिए नए अवसर पैदा किये जा सकेंगे।" पिछले वर्ष अगस्त महीने में कैबिनेट ने तरजीही आवंटन और इक्विटी के खुले प्रस्ताव के संयोजन के माध्यम से बैंक में एक प्रमोटर के रूप में जीवन बीमा निगम (LIC) की ओर से नियंत्रण हिस्सेदारी के अधिग्रहण को मंजूरी दे दी थी। एलआईसी की आईडीबीआई बैंक में बहुलांश हिस्सेदारी खरीदकर बैंकिंग क्षेत्र में प्रवेश करने की योजना है। आईडीबीआई बैंक का कारोबार दबाव में रहने के बावजूद इस सौदे से दोनों इकाइयों को व्यावसायिक सहयोग मिलने की उम्मीद है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि आईडीबीआई बैंक को चालू वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही में 3,602.49 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था। वहीं, बैंक का सकल एनपीए कुल कर्ज का 31.78 फीसद (60,875.49 करोड़ रुपये) रहा, पिछले वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही में यह आंकड़ा 24.98 फीसद रहा था। गौरतलब है कि आईडीबीआई बैंक के पास करीब 1.5 करोड़ रिटेल कस्टमर्स हैं और इसके अंतर्गत 18,000 कर्मचारी काम कर रहे हैं। आईडीबीआई बैंक की 800 शाखाओं का इस्तेमाल अब एलआईसी पॉलिसी की बिक्री के लिए बतौर टच प्वाइंट हो सकेगा।
पिछले साल अगस्‍त में कैबिनेट ने दी थी मंजूरी
अगस्‍त 2018 में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने LIC द्वारा IDBI Bank में कंट्रोलिंग स्‍टेक लेने को हरी झंडी दे दी थी. इक्विटी के प्रेफरेंशियल अलॉटमेंट और ऑपन ऑफर के जरिए LIC को इस बैंक के प्रमोटर बनाने की मंजूरी मंत्रिमंडल ने दी थी. LIC भी IDBI बैंक में बड़ी हिस्‍सेदारी लेकर बैंकिंग के क्षेत्र में प्रवेश करना चाहती थी. IDBI Bank की 800 शाखाओं के जरिए LIC अपनी पॉलिसियां बेचेगी
सितंबर तिमाही में IDBI Bank को हुआ था 3602 करोड़ रुपये का घाटा
वित्‍त वर्ष 2018-19 की सितंबर तिमाही के दौरान IDBI बैंक को 3,602.49 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था. इसके NPA का स्‍तर 31.78% यानी 60,875.49 करोड़ रुपये पहुंच गया था

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.