Wednesday, 30 May 2018

मध्य प्रदेश में सरकार किसान आंदोलन से पहले ही सतर्क

मध्य प्रदेश में सरकार किसान आंदोलन से पहले ही सतर्क

शिवराज सिंह चौहान सरकार मुश्किल स्थिति को टालने के लिए अपनी ओर से हर कोशिश कर रही है. किसानों को दस दिन की इस घेराबंदी से दूर रखने के लिए राज्य सरकार की ओर से लुभाने से लेकर हड़काने तक हर तरह के तरीके अपनाए जा रहे हैं. बता दें कि मंदसौर में पिछले साल किसानों की इसी तरह की घेराबंदी बाद में हिंसक प्रदर्शन में बदल गई थी. पुलिस फायरिंग में छह किसानों की मौत हो गई थी.
पुलिस किसी भी अप्रिय स्थिति को रोकने के लिए प्रो-एक्टिव मोड में है. जिन लोगों से गड़बड़ी फैलने की आशंका है उनसे बॉन्ड भरने के लिए कहा गया है. हालांकि राज्य के गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने राज्य सरकार की ओर से ऐसे किसी भी तरह के निर्देश जारी किए जाने से इनकार किया है.
मंदसौर गोली कांड की बरसी 6 जून को है. इसी दिन कांग्रेस की मंदसौर में मेगा रैली है. इस रैली को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी संबोधित करेंगे. बीजेपी का आरोप है कि कांग्रेस लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ कर रही है. राज्य सरकार ने एहतियाती कदमों के तहत धारा 144 के अलावा मंदसौर और आसपास के इलाकों में सोशल मीडिया पर बंदिश लगाने का ऐलान किया है. कोई भी भड़काने या उकसाने वाले कंटेंट को शेयर करेगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी. सरकार ने ये भी दावा किया है कि दस दिन की घेराबंदी के दौरान जरूरी सामान की आपूर्ति ठप नहीं होने दी जाएगी. 
मंदसौर में कानून और व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए रिजर्व पुलिस फोर्स की अतिरिक्त पांच कंपनियों को तैनात किया गया है. संवेदनशील स्थानों पर गड़बड़ी फैलाने की संभावना वाले लोगों पर नजर रखने के लिए 200 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं.
किसान संगठनों का आरोप है कि राज्य सरकार दमनकारी रवैया दिखा रही है. किसान नेता अनिल यादव ने इंडिया टुडे से बातचीत में कहा, 'हम किसानों ने बस दस दिन की छुट्टी मांगी है. हर कोई छुट्टी पर जाता है. हमें भी छुट्टी लेने का हक है. दस दिन तक हम ना तो कुछ उत्पन्न करेंगे और ना ही आपूर्ति करेंगे. ये सरकार हमारे साथ ऐसा बर्ताव कर रही है जैसा कि अपराधियों के साथ किया जाता है. नोटिस भेजे जा रहे हैं, लोगों से जबरदस्ती बॉन्ड भरवाए जा रहे हैं.
इस बीच विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने ऐसे आरोपों को सिरे से खारिज किया है कि वो भावनाओं को भड़का रही है. कांग्रेस प्रवक्ता मानेक अग्रवाल ने इंडिया टुडे से कहा, कांग्रेस राजनीतिक फायदे के लिए कोई भावनाओं को नहीं भड़का रही है जैसे कि बीजेपी आरोप लगा रही है. किसानों की मौजूदा दुर्दशा के लिए खुद बीजेपी जिम्मेदार है.
आखिर क्यों किसानों को बड़ी संख्या में खुदकुशी के लिए मजबूर होना पड़ रहा है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के नेतृत्व में सभी कांग्रेसजन किसान समुदाय के साथ उनके संकट के वक्त में साथ खड़े हैं.

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.