Wednesday, 25 April 2018

सीहोर के ग्राम चकल्दी में तेन्दूपत्ता संग्राहकों को मुख्यमंत्री ने बोनस वितरित


सीहोर के ग्राम चकल्दी में तेन्दूपत्ता संग्राहकों को मुख्यमंत्री ने बोनस वितरित

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज सीहोर जिले के ग्राम चकल्दी में लघु वनोपज संघ के समारोह में दो करोड़ 72 लाख की राशि तेन्दूपत्ता संग्राहकों के खातों में ई-ट्रांसफर माध्यम से वितरित की। इस अवसर पर ग्राम खजूरी निवासी श्रीमती रामीबाई तथा बनियागांव निवासी श्रीमती केवलीबाई को चप्पल पहनाकर और साड़ी वितरित कर पूरे जिले के तेंदूपत्ता संग्राहकों को जूता-चप्पल वितरण की शुरूआत की। सीहोर जिले में पन्द्रह तेन्दूपत्ता संग्रहण समितियाँ हैं और अड़तालीस हजार से अधिक संग्राहक है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सर्वांगीण विकास तभी संभव है जब सभी सामूहिक जिम्मेदारी की भावना से अपने दायित्वों का निर्वहन करें। प्रकृति प्रदत्त संसाधनों पर सभी का अधिकार है। जो लोग इसका लाभ लेने से वंचित रहे हैं, ऐसे सभी वर्ग के लोगों को आगे आने में सरकार मदद कर रही है। श्री चौहान ने कहा कि सरकार ने असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले श्रमिकों के पंजीयन का कार्य अभियान स्तर पर करवाया है। ढाई एकड़ तक की जोत वाले किसानों को भी असंगठित श्रमिक माना गया है। पंजीयन का काम पूरा होने पर पात्र श्रमिकों को सभी योजनाओं का लाभ मिलेगा।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अब श्रमिक परिवार की महिला द्वारा गर्भ धारण करने के 6 से 9 माह के बीच चार हजार रूपये की राशि उसके बैंक खाते में डाली जायेगी । प्रसव के बाद बारह हजार रूपये की राशि और डाली जायेगी, ताकि जच्चा-बच्चा स्वस्थ रहे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि इस योजना पर लगभग 1600 करोड़ रूपये सालाना खर्च होने का अनुमान है। श्री चौहान ने अपील की कि प्रसव सरकारी अस्पताल में करायें तथा जच्चा-बच्चा का संपूर्ण टीकाकरण भी आवश्यक रूप से कराया जाये।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्व-सहायता समूहों को सुदृढ़ बनाने की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि स्व-सहायता समूह की सदस्य महिलाएँ अपने परिवार की आय बढ़ाने में उल्लेखनीय योगदान दे सकती हैं। शासन की ओर से स्व-सहायता समूहों को सुदृढ़ बनाने के लिये यथासंभव सभी प्रयास किये जा रहे हैं।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आगामी चार वर्षों में प्रदेश में सभी पात्र आवासहीनों को पक्के घर उपलब्ध करवाये जायेंगे। राज्य सरकार गरीबों को मकान के लिये जमीन और पानी, बिजली जैसी मूलभूत जरूरतों को पूरा करने पर विशेष ध्यान दे रही है। उन्होंने कहा कि श्रमिकों को फ्लेट रेट पर बिजली देने का काम एक अप्रैल से आरंभ कर दिया गया है।
इसके पूर्व मुख्यमंत्री श्री चौहान ने चार करोड़ रूपये लागत से बने आई.टी.आई. भवन 95 लाख रूपये की लागत के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र तथा 80 लाख रूपये की लागत के ग्रामीण खेल मैदान का लोकार्पण किया।
इस अवसर पर सिलाई कला मंडल के अध्यक्ष श्री सुनील माहेश्वरी, अपेक्स बैंक के प्रशासक श्री रमाकांत भार्गव, वन विकास निगम के अध्यक्ष श्री गुरू प्रसाद शर्मा, वेयर हाउसिंग कारपोरेशन के अध्यक्ष श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, लघु वनोपज संघ के अध्यक्ष श्री महेश कोरी, उपाध्यक्ष श्री रामनारायण साहू भी उपस्थित थे।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.