Sunday, 29 April 2018

हीरोइन की तलाश में कोठे तक गए थे दादा साहेब फाल्के, 15 हजार में बनाई थी पहली फिल्म


हीरोइन की तलाश में कोठे तक गए थे दादा साहेब फाल्के, 15 हजार में बनाई थी पहली फिल्म

भारतीय सिनेमा के जनक दादा साहेब फाल्के के 148वें जन्मदिन के मौके पर गूगल ने डूडल बनाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी है. दादा साहेब फाल्के का जन्म 30 अप्रैल, 1870 को महाराष्ट्र के नासिक शहर में हुआ था. उनका असली नाम धुंडीराज गोविंद फाल्के था. उनके पिता शास्त्री फाल्के संस्कृत के विद्धान थे और बेहतर जिंदगी की तलाश के लिए उनका परिवार नासिक से मुंबई पहुंचा. बचपन से ही उनका रुझान कला की ओर रहा और साल 1855 में उन्होंने जे.जे.कॉलेज ऑफ आर्ट में दाखिला लिया. उन्होंने नाटक कंपनी में चित्रकार और पुरात्तव विभाग में फोटोग्राफर के तौर पर काम भी किया. जब इन सबमें उनका मन नहीं लगा तो फिल्मकार बनने का फैसला लिया और दोस्त से रुपये लेकर लंदन चले गए.

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.