Friday, 20 April 2018

मुख्यमंत्री द्वारा दमोह बुंदेली महोत्सव में चार विभूतियाँ ओजस्विनी अलंकरण से पुरस्कृत


मुख्यमंत्री द्वारा दमोह बुंदेली महोत्सव में चार विभूतियाँ ओजस्विनी अलंकरण से पुरस्कृत

 मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में देश का अग्रणी राज्य बनेगा। इसके लिये राज्य सरकार द्वारा अनेक योजनाएँ और कार्यक्रम संचालित किये जा रहे हैं। उन्होंने यह बात शुक्रवार को दमोह में बुंदेली महोत्सव के शुभारंभ अवसर पर कही। इस अवसर पर 4 राष्ट्र विभूतियों को ओजस्वी अलंकरण-2017 से अलंकृत किया और डॉ. सुधा मलैया द्वारा लिखित पुस्तिका श्रीजा का विमोचन भी किया गया।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बेटियों को लखपति बनाने का हमारा बरसों पुराना सपना अब पूरा हो रहा है। हमने बेटियों के जन्म को बढ़ावा देने के लिये लाड़ली लक्ष्मी योजना, उनकी पढ़ाई लिखाई, शादी विवाह से लेकर उन्हें सशक्त बनाने और रोजगार में आरक्षण देने तक की व्यवस्था की है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बुंदेली संस्कृति अद्भुत है। इसकी छटा निराली है, यहां का गीत, संगीत, व्यंजन, कला, संस्कृति और जीवन मूल्य औरों से अलग है। इस महोत्सव के जरिये विभूतियों को सम्मानित करना गौरव का विषय है। समाज में स्त्री अत्याचारों के प्रति चिंता व्यक्त भी की।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री एवं अन्य अतिथियों ने ब्रम्हर्षि सुभाष पत्री एवं उनकी धर्मपत्नी श्रीमती स्वर्णलता पत्री को ओजस्विनी अर्धनारीश्वर अलंकरण से, साध्वी ज्ञानेश्वरीजी को ओजस्विनी शिखर अलंकरण से, डॉ. शरद रेणु शर्मा को ओजस्विनी शीर्ष अलंकरण एवं श्रीमती शमा भाटे को विशिष्ट कला शिखर अलंकरण के रूप में धनराशि, शाल एवं श्रीफल देकर अलंकृत किया।
पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री भार्गव ने कहा कि ओजस्विनी शब्द ही नारी शक्ति का प्रतीक है, हम सबको महिलाओं में सामाजिक चेतना के विकास और उनके उत्थान के लिये मिल-जुल कर काम करना होगा। उन्होंने ओजस्विनी पत्रिका की प्रधान संपादिका डॉ. मलैया की सराहना भी की।
कार्यक्रम के प्रारंभ में डॉ. सुधा मलैया ने बताया कि ओजस्विनी प्रदेश की एक मात्र सम्पूर्ण महिला विचार प्रधान पत्रिका है। पिछले 25 सालों में इसने कई नये आयाम तय किये है। 20 सालों से ओजस्विनी अलंकरण समारोह आयोजित हो रहे है। दमोह बुंदेली उत्सव का यह सातवां वर्ष है, जिसमें दमोह जिले के नागरिकों विशेषकर महिलाओं की सहभागिता उल्लेखनीय रही है।
कार्यक्रम का शुभारंभ वंदेमातरम् से हुआ। मुख्यमंत्री व अन्य अतिथियों ने मॉ. सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर महिला सम्मेलन व ओजस्विनी अलंकरण समारोह का शुभारभ किया। कार्यक्रम के पश्चात मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बुंदेली परम्पराओं पर आधारित सास्कृतिक कार्यक्रमों का भी आनंद लिया।
इस मौके पर प्रदेश के वित्त, वाणिज्यिक कर मंत्री श्री जयंत कुमार मलैया, विधायक सुश्री उमादेवी खटीक, श्री लखन पटैल, जिला केन्द्रीय सहकारी बैक अध्यक्ष श्री राजेन्द्र गुरू, कमिश्नर श्री आशुतोष अवस्थी, आईजी श्री सतीश कुमार सक्सेना, जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री शंभुसिंह रघुवंशी, कलेक्टर डॉ. श्रीनिवास शर्मा, पुलिस अधीक्षक विवेक अग्रवाल एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.