Thursday, 8 February 2018

पीरियड की तकलीफ ने बनाया 'पैडमैन',


पीरियड की तकलीफ ने बनाया 'पैडमैन',


आर बाल्की ने चीनी कम, पा, शमिताभ, की एंड का जैसी फिल्में डायरेक्ट की हैं. पैडमैन के साथ वो फिर से एक अहम मुद्दे को लेकर हाजिर हैं. आर बाल्की की ये फिल्म अरुणाचलम मुरुगनंथम की जिंदगी पर आधारित है जिन्हें पूरे विश्व में पैडमैन के नाम से जाना जाता है. फिल्म की रिलीज पहले गणतंत्र दिवस पर होनी थी लेकिन पद्मावत के साथ होने वाले क्लैश को टालने के लिए अक्षय ने इसे 9 फरवरी को रिलीज कर रहे हैं.
कहानी
फिल्म की कहानी मध्य प्रदेश के महेश्वर बेस्ड है जहां का रहने वाला लक्ष्मीकांत चौहान (अक्षय कुमार) सबकी सहायता करने के लिए जाना जाता है लेकिन लोग उसके प्रयोग करने की वजह से हमेशा पागल कह कर बुलाते हैं. फिर उसकी शादी गायत्री (राधिका आप्टे) से होती है, लेकिन शादी के बाद लक्ष्मीकांत को महिलाओं की माहवारी का पता चलता है. इस दौरान होने वाली तकलीफ से महिलाएं कैसे गुजरती हैं इसी बात से परेशान होकर लक्ष्मीकांत अपनी बहन, पत्नी और मां के लिए पेड बनाने की कोशिश करता है. लेकिन उसके इस प्रयास को घरवालों के साथ ही पूरा गांव भी गलत और गन्दा समझता है. लक्ष्मीकांत की पत्नी गायत्री भी उसे छोड़ के चली जाती है, फिर अपने जज्बे को पूरा करने के लिए लक्ष्मीकांत गांव से शहर जाता है जहां उसकी मुलाकात परी (सोनम कपूर) से होती है. परी लक्ष्मीकांत को अपना सपना पूरा करने के लिए प्रेरित करती है. लक्ष्मीकांत अपने मंसूबे में कामयाब होता है, सस्ते पैड्स बनाता है और पूरे गांव के साथ ही विदेश में भी मिसाल बन जाता है.

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.