Thursday, 15 February 2018

भारतीय टीम विजयी 'पंच' लगाने उतरेगी


भारतीय टीम विजयी 'पंच' लगाने उतरेगी 


मेजबान अभी भूले नहीं होंगे जब इसी महीने की चार तारीख को भारतीय टीम ने उन्हें सेंचुरियन में 32.2 ओवर्स में महज 118 रन पर समेट दिया था। यह भी याद होगा कि 10 मिनट के ब्रेक के बाद जब भारतीय टीम लक्ष्य का पीछा करने उतरी तो जीत के लिए बचे दो रन के लिए उसे 45 मिनट तक इंतजार करना पड़ा क्योंकि अंपायर्स ने लंच-ब्रेक दे दिया था। उन्हीं यादों को ताजा करने के लिए एक बार फिर तैयार हो जाइए क्योंकि दोनों टीमें आज एक बार फिर सुपर स्पोर्ट पार्क पर आमने-सामने होंगी। 'विराट-सेना' इस बार मेजबान टीम को 'पंच' मारने उतरेगी। कैप्टन कोहली पहले ही कह चुके हैं कि उनकी टीम का टारगेट सीरीज 5-1 से जीतने का है। साख बचाने वाले इस मैच में मेजबान टीम भी भारतीय पंच से बचने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ना चाहेगी।
फिर होगी चहल-पहल!
सेंचुरियन के इस पिच को साउथ अफ्रीका के सबसे तेज पिचों में माना जाता है। यहां हमेशा तेज गेंदबाजों का बोलबाला रहा है। लेकिन युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव की स्पिन जोड़ी मेजबानों के लिए सीरीज के पहले मैच से ही मुसीबत बनी हुई है। चहल ने तो इस मैदान पर पिछले मैच में 'पंजा मारकर' ना केवल अपने करियर की बेहतरीन गेंदबाजी की थी बल्कि साउथ अफ्रीका को उनके होम ग्राउंड पर सबसे बड़ी हार झेलने के लिए भी मजबूर कर दिया था। उनका साथ कुलदीप ने तीन विकेट लेकर दिया था। इसमें कोई दो राय नहीं कि आज के मैच में भी साउथ अफ्रीकी बल्लेबाजों के दिमाग में इस जोड़ी का खौफ होगा।
कुछ बदलाव संभव
पांचवें मैच में मिली जीत के साथ ही भारतीय टीम ने सीरीज भी जीत ली थी। इसके बाद आखिरी मैच के लिए बेंच स्ट्रेंथ को आजमाने के सवाल पर टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने कहा था कि हमारी पहली प्राथमिकता मैच जीतना है। हालांकि उन्होंने प्लेइंग इलेवन में भी बदलाव के संकेत दिए थे। ऐसे में संभावना है कि आज भुवनेश्वर कुमार की जगह मोहम्मद शमी को और शिखर धवन की जगह मनीष पांडे को मौका मिले। अगर केदार जाधव फिट रहते हैं तो श्रेयस अय्यर की जगह उन्हें भी आजमाया जा सकता है। जाधव मिडिल ऑर्डर में बैट के साथ ही जरूरत पड़ने पर गेंद से भी अच्छा योगदान देने की क्षमता रखते हैं।
सबसे लकी मैदान
एशिया से बाहर भारतीय टीम के लिए यह सबसे लकी मैदान में से एक है। यहां चाहे द्विपक्षीय सीरीज हो या फिर कोई चैंपियनशिप, भारतीय टीम का हमेशा डंका बजा है। इस मैदान पर खेले गए पहले और आखिरी वनडे में भारतीय टीम ने जीत दर्ज की है। सीरीज में हर मोर्चे पर नाकाम साबित हो रही मेजबान टीम के लिए यह रेकॉर्ड भी निराश करने वाला है। हां, जो एक चीज मेजबानों के पक्ष में जाता है वह यह कि टीम के सबसे अनुभवी बल्लेबाज हाशिम अमला ने वनडे में सबसे ज्यादा पांच शतक इसी मैदान पर लगाए हैं। सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में भी वह यहां सबसे आगे हैं। अमला भले ही सीरीज में खास नहीं कर सके हैं लेकिन साउथ अफ्रीका के लिए सबसे ज्यादा रन उन्हीं ने बनाए हैं। उनके अलावा एबी डिविलियर्स और डेविड मिलर पर मेजबान टीम का दारोमदार होगा। गेंदबाजी में इमरान ताहिर को मैच में मौका मिल सकता है।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.