Thursday, 9 November 2017

राज्य निर्वाचन आयुक्तों की छब्बीसवीं राष्ट्रीय कांफ्रेन्स

राज्य निर्वाचन आयुक्तों की छब्बीसवीं राष्ट्रीय कांफ्रेन्स
आयुक्तों ने निष्पक्ष निर्वाचन के लिये किये गये नवाचारों की दी जानकारी 
खंडवा जिले के हनुवंतिया में राज्य निर्वाचन आयुक्तों की छब्बीसवीं राष्ट्रीय कांफ्रेन्स आज शुरू हुई। कांफ्रेन्स में विभिन्न राज्यों के राज्य निर्वाचन आयुक्तों ने स्वतंत्र और निष्पक्ष निर्वाचन के लिये किये गये नवाचारों का प्रज़ेन्टेशन दिया। कांफ्रेन्स में 19 राज्य निर्वाचन आयुक्त शामिल हुए। पिछली कांफ्रेन्स गुजरात राज्य के कच्छ में हुई थी। कच्छ कांफ्रेन्स में लिये गये निर्णयों के क्रियान्वयन के संबंध में भी हनुवंतिया कान्फ्रेंस में आज चर्चा हुई।
महाराष्ट्र के राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री जे एस सहारिया ने बताया कि नगर पालिक निगमों के चुनाव में उम्मीदवारों के खर्च की मॉनिटरिंग के लिये इनकम टेक्स आफिसर की डयूटी लगाई गई है। तेलंगाना के श्री बी. नागीरेड्डी ने प्रज़ेन्टेशन में जानकारी दी कि पंच और संरपंच पद के उम्मीदवारों के लिये भी खर्च की सीमा तय की गई है। पंच के लिये दस हज़ार रूपये की खर्च सीमा निर्धारित है। पश्चिम बंगाल के श्री ए.के. सिंह ने बताया कि अन्य राज्यों से अलग पश्चिम बंगाल में चुनाव तारीखों का निर्धारण राज्य सरकार द्वारा किया जाता है। दिल्ली और चंडीगढ़ के श्री एस.के. श्रीवास्तव ने कहा कि ईवीएम का खर्च कम करने के लिये पड़ोसी राज्यों का ज़ोन बनाकर मशीनों की शेरिंग की जा सकती है।

महिला मतदाताओं का नाम जोड़ने विशेष अभियान
मध्यप्रदेश राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री आर.परशुराम ने बताया कि मतदाता सूची में महिला मतदाताओं का नाम जोड़ने के लिये विशेष अभियान चलाया गया। परिणाम स्वरूप प्रति हज़ार महिला मतदाताओं का अनुपात 913 से बढ़कर 931 हुआ। उन्होंने बताया कि निर्धारित निर्वाचन तिथि के छै: महीने पहले परिश्रिमन कराना अनिवार्य किया गया है। ऐसा नहीं होने पर निर्वाचन की प्रक्रिया प्रारंभ करने का प्रावाधान किया गया है। मध्यप्रदेश में किये गये नवाचारों की जानकारी कमिश्नर इंदौर श्री संजय दुबे ने दी। उन्होंने कोटोहित मतदाता सूची चुनाव मोबाईल एप, ई-वोटर स्लिप, ऑनलाइन नॉमिनेशन, ई-मेनेजमेंट और ईवीएम ट्रेकिंग सिस्टम सहित अन्य कार्यों की जानकारी दी। गुजरात के डॉ. बारेश सिन्हा ने गुजरात में किये गये नवाचारों की जानकारी दी। हरियाणा के डॉ. दलीप सिंह ने बताया कि मतदान का प्रतिशत बढ़ाने के लिये विभिन्न माध्यमों से प्रचार-प्रसार किया गया। बिहार के श्री अशोक कुमार चौहान ने नगरीय निकाय चुनावों में महिलाओं की सह-भागिता पर प्रज़ेन्टेशन दिया। कर्नाटक के श्री पी.एन. श्रीनिवासाचारी ने मतदाता सूची निर्माण के बारे में बताया। गोवा के श्री आर.के. श्रीवास्तव ने बताया कि पंचायत स्तर तक इंटरनेट सुविधा होने से सभी कार्य ऑनलाइन करने में समस्या नहीं आती। अरूणाचल प्रदेश के श्री हाजे कोजीन, केरल के श्री बी. भास्करन, राजस्थान के श्री प्रेम सिंह मेहरा और त्रिपुरा के श्री कामेश्वर राव ने भी महत्वपूर्ण सुझाव दिये।

कांफ्रेन्स में 'नॉलेज शेरिंग इनीशियेटिव-2017'' पुस्तिका का विमोचन भी किया गया। स्वागत भाषण राज्य निर्वाचन आयोग की सचिव श्रीमती सुनीता त्रिपाठी ने दिया। कांफ्रेन्स में छत्तीसगढ़ के राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री ठाकुर रामसिंह जम्मू कश्मीर के श्री सलीन काबरा, केन्द्र शासित प्रदेशों के श्री नरेन्द्र कुमार और म.प्र. राज्य निर्वाचन आयोग के अधिकारी उपस्थित थे।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.