Monday, 30 October 2017

आतंकवाद से मिलकर लड़ेंगे भारत और इटली : मोदी - मोदी और जेंटिलोनी की मौजूदगी हुए 6 समझौते भारतीय और इटली के प्रधानमंत्रीद्वय नरेंद्र मोदी और पाओलो जेंटिलोनी ने आतंकवाद और साइबर अपराधों जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर बातचीत की और दोनों की मौजूदगी में भारत और इटली ने ऊर्जा और व्यापार में सहयोग बढ़ाने समेत कुछ मुद्दों पर छह समझौते किये। सोमवार को दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय राजनीतिक और आर्थिक संबंधों को प्रगाढ़ बनाने के तरीकों पर भी गहन चर्चा के अलावा रणनीतिक अंतर्राष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय विषय भी विचार-विमर्श का हिस्सा बने। सोमवार को जेंटिलोनी के साथ संयुक्त मीडिया वार्ता में मोदी ने कहा कि उन्होंने आतंकवाद और साइबर अपराधों की चुनौतियों समेत व्यापक मुद्दों पर चर्चा की और इनसे निपटने के लिए सहयोग बढ़ाने पर सहमत हुए। उन्होंने कहा कि भारत-इटली व्यापार संबंधों के विस्तार की अपार संभावनाएं हैं। वहीं, इटली के प्रधानमंत्री ने दोनों देशों के संबंधों को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि भारत की संस्कृति बहुत धनी है। अर्थव्यवस्था के मामले में भारत में बहुत सारी संभावनाएं हैं। हम भारत के साथ मिलकर आर्थिक संकटों से निपट सकते हैं। दोनों नेताओं ने शिष्टसमंडल स्तैर की वार्ता में हिस्साआ लिया और 12 भारतीय और 19 इतालवी बिजनेस लीडर्स के साथ भी आर्थिक व निवेश सहयोग को मजबूत बनाने पर चर्चा की। उल्लेखनीय है कि एक दशक से भी ज्यादा समय में किसी इतालवी प्रधानमंत्री की पहली भारत यात्रा है। भारत यात्रा पर इटली के प्रधानमंत्री का राष्ट्रपति भवन प्रांगण में औपचारिक स्वागत किया गया। गौरतलब है कि इटली यूरोपीय संघ में भारत का पांचवां सबसे बड़ा व्यापारिक सहयोगी है और आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार दोनों देशों के बीच 2016-17 में 8.79 अरब डालर का कारोबार हुआ। भारत से इटली का निर्यात 4.90 अरब डालर रहा जबकि उसका आयात 3.89 अरब डालर रहा। वित्त वर्ष 2017..18 के पहले चार महीने में दोनों देशों का व्यापार 3.22 अरब डालर तक पहुंच गया।

आतंकवाद से मिलकर लड़ेंगे भारत और इटली : मोदी
- मोदी और जेंटिलोनी की मौजूदगी हुए 6 समझौते

भारतीय और इटली के प्रधानमंत्रीद्वय  नरेंद्र मोदी और पाओलो जेंटिलोनी ने आतंकवाद और साइबर अपराधों जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर बातचीत की और दोनों की मौजूदगी में भारत और इटली ने ऊर्जा और व्यापार में सहयोग बढ़ाने समेत कुछ मुद्दों पर छह समझौते किये। सोमवार को दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय राजनीतिक और आर्थिक संबंधों को प्रगाढ़ बनाने के तरीकों पर भी गहन चर्चा के अलावा रणनीतिक अंतर्राष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय विषय भी विचार-विमर्श का हिस्सा बने।
सोमवार को जेंटिलोनी के साथ संयुक्त मीडिया वार्ता में मोदी ने कहा कि उन्होंने आतंकवाद और साइबर अपराधों की चुनौतियों समेत व्यापक मुद्दों पर चर्चा की और इनसे निपटने के लिए सहयोग बढ़ाने पर सहमत हुए। उन्होंने कहा कि भारत-इटली व्यापार संबंधों के विस्तार की अपार संभावनाएं हैं। वहीं, इटली के प्रधानमंत्री ने दोनों देशों के संबंधों को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि भारत की संस्कृति बहुत धनी है। अर्थव्यवस्था के मामले में भारत में बहुत सारी संभावनाएं हैं। हम भारत के साथ मिलकर आर्थिक संकटों से निपट सकते हैं। दोनों नेताओं ने शिष्‍टमंडल स्‍तर की वार्ता में हिस्‍सा लिया और 12 भारतीय और 19 इतालवी बिजनेस लीडर्स के साथ भी आर्थिक व निवेश सहयोग को मजबूत बनाने पर चर्चा की।
उल्लेखनीय है कि एक दशक से भी ज्यादा समय में किसी इतालवी प्रधानमंत्री की पहली भारत यात्रा है। भारत यात्रा पर इटली के प्रधानमंत्री का राष्ट्रपति भवन प्रांगण में औपचारिक स्वागत किया गया।

गौरतलब है कि इटली यूरोपीय संघ में भारत का पांचवां सबसे बड़ा व्यापारिक सहयोगी है और आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार दोनों देशों के बीच 2016-17 में 8.79 अरब डालर का कारोबार हुआ। भारत से इटली का निर्यात 4.90 अरब डालर रहा जबकि उसका आयात 3.89 अरब डालर रहा। वित्त वर्ष 2017..18 के पहले चार महीने में दोनों देशों का व्यापार 3.22 अरब डालर तक पहुंच गया।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.