Tuesday, 17 October 2017

मंत्री श्री आर्य ने किया साँची घी के 5 एवं 15 किलो पैक का शुभारंभ

मंत्री श्री आर्य ने किया साँची घी के 5 एवं 15 किलो पैक का शुभारंभ
दुग्ध उत्पादन में देश में तीसरे पायदान पर पहुँचा मध्यप्रदेश
पशुपालन मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य ने आज धनतेरस के अवसर पर भोपाल में साँची घी की 5 किलो एवं 15 किलो की अत्याधुनिक पैकिंग का शुभारंभ किया। यह पैकिंग अत्यधिक आकर्षक होने के साथ सुरक्षित और लीक प्रूफ भी है। इसमें फूड ग्रेड गुणवत्ता का प्लास्टिक और कलर इंक का प्रयोग किया गया है। इन डिब्बों को मजबूत होने के कारण काफी मात्रा में कम जगह पर रखा जा सकता है। सीलप्रूफ होने के कारण गुणवत्ता भी सुरक्षित रहेगी और किसी प्रकार की मिलावट की गुंजाइश भी समाप्त हो जाएगी।

श्री आर्य ने म.प्र. को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन के अधिकारियों और कर्मचारियों को बधाई देते हुए कहा कि यह उनकी मेहनत का परिणाम है कि पिछले 10-12 साल पहले मध्यप्रदेश जहाँ दुग्ध उत्पादन में देश में छठे-सातवें और गत वर्ष चौथे नम्बर पर था, आज तीसरे पायदान पर आ गया है। श्री आर्य ने कहा कि दुग्ध और साँची उत्पादों की गुणवत्ता और मात्रा में बढ़ोत्तरी का कारण पिछले वर्ष दुग्ध संकलन केन्द्रों और मिल्क रूट संख्या में बढ़ोत्तरी है। उन्होंने कहा कि हम मेहनत कर रहे हैं, हमें मेहनत जारी रखते हुए इसे नम्बर वन बनाना है। श्री आर्य ने कहा कि राज्य शासन का वर्ष 2022 तक कृषि आमदनी को दोगुना करने का लक्ष्य है, जिसमें पशुपालन विभाग महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। भारतीय संस्कृति में पशुधन सदैव महत्वपूर्ण रहा है। आज पढ़े-लिखे नौजवान डेयरी उद्योग में आगे आ रहे हैं।
प्रमुख सचिव श्री अजीत केसरी ने बताया कि इस वर्ष दुग्ध संग्राहक किसानों को करीब 200 करोड़ रुपये की राशि का भुगतान किया गया। यह दुग्ध संकलन के लिए अब तक का किया गया सर्वाधिक भुगतान है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के दुग्ध उत्पादों की गुणवत्ता में अब अंतर्राष्ट्रीय मानकों का पालन किया जाएगा। प्रबंध संचालक डॉ. अरुणा गुप्ता ने बताया कि इस वर्ष को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन द्वारा अब तक का सर्वाधिक 14 लाख लीटर दूध का उपार्जन किया गया। मध्यप्रदेश के लिए यह बहुत बड़ी उपलब्धि है कि उसने मदर डेयरी को पीछे छोड़ते हुए इस वर्ष आईआरटीसी का अनुबंध हासिल किया है।

मध्यप्रदेश को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन के वर्तमान एवं पूर्व अध्यक्ष श्री मस्तान सिंह राजपूत और श्री धरम सिंह वर्मा, सीपेट दिल्ली के निदेशक, दुग्ध संघों के कार्यपालन अधिकारी तथा अधिकारी-कर्मचारी और आम नागरिक कार्यक्रम में उपस्थित थे।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.