Monday, 4 September 2017

मुख्यमंत्री द्वारा लोक निर्माण विभाग की विस्तृत समीक्षा

मुख्यमंत्री द्वारा लोक निर्माण विभाग की विस्तृत समीक्षा 


मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिये हैं कि प्रदेश की सभी मुख्य सड़कें और जिला मार्ग आवागमन के लिये बेहतर स्थिति में रहें। इसके लिये आवश्यकतानुसार सुधार कार्य भी किये जाएं। मुख्यमंत्री  चौहान ने यह निर्देश आज यहाँ लोक निर्माण विभाग की समीक्षा बैठक में दिये। बैठक में बताया गया कि लोक निर्माण विभाग द्वारा बीते एक वर्ष में तीन हजार 799 किलोमीटर सड़कों और 85 पुलों का निर्माण किया गया है और तीन हजार 700 किलोमीटर सड़कों का नवीनीकरण किया गया है। इस कार्य में करीब 2,766 करोड़ रूपये खर्च किये गये हैं। बैठक में लोक निर्माण मंत्री  रामपाल सिंह भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री  चौहान ने बैठक में कहा कि सड़कों के लिये संसाधन जुटाने के लिये योजना बनाएं। आदिवासी बाहुल्य जिलों में सड़कों के निर्माण के लिये जिला माईनिंग फण्ड की राशि का उपयोग किया जाए। ग्रामीण क्षेत्र में कम लम्बाई की छोटी सड़कों के निर्माण के लिये ग्रामीण विकास विभाग के तहत उपलब्ध राशि का उपयोग किया जाए। सड़कों के सुधार के लिये आवश्यक राशि उपलब्ध कराई जाएगी।

बैठक में बताया गया कि योजना एवं सीआरएफ के तहत 1440 करोड़ रूपये की लागत से 900 किलोमीटर मुख्य जिला मार्ग बनाये गये हैं। इसी तरह, एडीबी के चतुर्थ चरण में दो हजार 61 करोड़ रूपये की लागत से 1365 किलोमीटर सड़कें बनाई गई हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में विभाग द्वारा 23 हजार 395 किलोमीटर लम्बाई के ग्रामीण मार्गों को संधारित किया जा रहा है। नवीन घोषित राष्ट्रीय राजमार्गों के 2 हजार 611 किलोमीटर में क्षतिग्रस्त मार्ग का मजबूतीकरण किया जा रहा है।

बैठक में मुख्य सचिव  बी.पी. सिंह, अपर मुख्य सचिव वित्त  ए.पी. वास्तव, प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग  प्रमोद अग्रवाल, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव  अशोक वर्णवाल, राज्य सड़क विकास प्राधिकरण के प्रबंध संचालक  मनीष रस्तोगी, लोक निर्माण विभाग के प्रमुख अभियंता  अखिलेश अग्रवाल भी उपस्थित थे।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.