Friday, 1 September 2017

प्रभारी मंत्री बिसेन की अध्यक्षता में समीक्षा बैठक में हुए कई निर्णय

प्रभारी मंत्री  बिसेन की अध्यक्षता में समीक्षा बैठक में हुए कई निर्णय 


ग्वालियर जिले के प्रभारी मंत्री  गौरीशंकर बिसेन की अध्यक्षता में विगत दिनों मंत्रालय में ग्वालियर की पेयजल समस्या के समाधान के लिए आहुत बैठक में ग्वालियर के नागरिकों को उनकी जरूरत के अनुसार समुचित पीने का पानी उपलब्ध करवाने की योजना को अंतिम रूप दे दिया गया है। इस बैठक में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री  माया सिंह, जल-संसाधन मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, उच्च शिक्षा मंत्री  जयभान सिंह पवैया, विधायक  भारत सिंह कुशवाह एवं संबधित प्रमुख सचिव तथा विभागध्याक्ष उपस्थित थे।

बैठक में बताया गया कि तिघरा डेम में ग्वालियर की जल-प्रदाय व्यवस्था के लिए 770 एमसीएफटी पानी उपलब्ध है। यदि प्रतिदिन पानी दिया जाता है तो डेम के जरिए 64 दिन की पेयजल आपूर्ति की जा सकेगी। यदि एक दिन छोड़कर पेयजल की आपूर्ति की जाए तो नगर को 96 दिन तक जल-प्रदाय किया जा सकता है। जानकारी दी गई कि अपर ककैटो, ककैटो एवं पहसारी डेम में कमश: 125,1020 और 500 एमसीएफटी इस प्रकार कुल 1645 एमसीएफटी पानी आज की स्थिति में ग्वालियर को पेयजल वितरण के लिए उपलब्ध है। इस पानी को लिफ्ट कर तिघरा में लाए जाने पर कुल पेयजल की उपलब्धता 2445 एमसीएफटी हो जाएगी। वर्तमान में ग्वालियर शहर के लिए प्रतिदिन 8 एमसीएफटी की जरूरत है। स्टाक के 2445 एमसीएफटी पानी की सप्लाई से ग्वालियर में प्रतिदिन 187 दिन और एक मार्च 2018 तक एक दिन छोड़कर पानी सप्लाई करने पर 280 दिन अर्थात 02 जून 2018 तक पेयजल की सप्लाई की जा सकती है।

ग्वालियर महापौर ने बैठक में बताया कि एमसीएफटी पानी यदि उपलब्ध कराया जाता है तो नगर निगम ग्वालियर शहर की आगामी वर्ष के वर्षाकाल तक पानी की सप्लाई कर सकेगा। प्रमुख अभियंता नगरीय प्रशासन ने बताया कि ग्वालियर की शहर की जल प्रदाय व्यवस्था के लिये ककैटो और पैहसारी डेम से पानी को लिफ्ट करने की कार्यवाही तत्काल प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया। प्रमुख अभियंता ने बताया कि चंबल नदी से लगभग 84 एमसीएम जल प्रदाय पंपिंग के माध्यम से ग्वालियर को देने के लिए केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री  नरेन्द्र सिंह तोमर से चर्चा के बाद प्राक्कलन तैयार किया जा रहा है। इसका प्रस्ताव केन्द्र सरकार को तत्काल भेजा जा रहा है।

प्रमुख सचिव जल संसाधन ने कहा कि ग्वालियर की पेयजल व्यवस्था के लिये एक अन्य विकल्प के रूप में 2300 एमसीएफटी पानी ककैटो बाँध पेहसारी डेम लिफ्ट किया जा सकता है। लिफ्ट पानी की मात्रा का 50 प्रतिशत पानी तिघरा बाँध में पहुँचाने के लिये करीब 12 करोड़ 65 लाख रुपये की योजना को बैठक में ही स्वीकृति प्रदान कर प्रशासकीय स्वीकृति डीपीआर एवं निविदाएँ तत्काल आमंत्रित करने का निर्णय लिया गया है।

किसान कल्याण मंत्री  गौरीशंकर बिसेन ने बताया कि चंबल नदी से ग्वालियर में जल लाने पर 500 करोड़ रूपये की योजना होगी और चंबल नदी से ग्वालियर में पानी लाने पर प्रतिवर्ष 60 करोड़ रूपये का संधारण व्यय होगा। उन्होंने बताया कि इस योजना पर विचार किया जा रहा है। वर्तमान पेयजल प्रदाय योजना के लिए खूबी नहर एवं नदी में छोड़कर लाए जा रहे पानी को पाइप-लाइन द्वारा आर.सी.सी. नहर द्वारा तिघरा तक लाने की वृहद योजना के विकल्प पर विस्तृत प्राक्कलन बनाये जाने का भी निर्णय लिया गया।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.