Sunday, 24 September 2017

बीएचयू में लाठीचार्ज के बाद भारी तनाव



बीएचयू में लाठीचार्ज के बाद भारी तनाव
-वाराणसी के सभी डिग्री कॉलेज बंद किए गए

बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में प्रदर्शन कर रही छात्राओं पर हुए लाठीचार्ज के बाद शहर में तनाव फैल गया। लाठीचार्ज के विरोध में बीएचयू के छात्रों ने एक शांति मार्च निकालने की कोशिश की, जिसे पुलिसकर्मियों ने जबरन रोक दिया। छात्रों के गुस्से को देखते हुए वाराणसी के सभी डिग्री कॉलेज बंद कर दिए गए हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटनाक्रम की जांच के आदेश दे दिए हैं। वाराणसी के कमिश्नर से इस मामले की रिपोर्ट देने को कहा गया है।
क्या हुआ बीएचयू में : बीएचयू में पढऩे वाली लड़कियां कैंपस में हो रही छेड़छाड़ की वारदातों के खिलाफ दो दिनों से धरने पर बैठी थीं। शनिवार रात कऱीब 11 बजे प्रदर्शनकारी छात्र-छात्राएं वीसी के घर की ओर जाने लगे। वहां बीएचयू के गार्डों से उनकी झड़प हुई। इसके बाद पथराव हुआ। बीएचयू में शनिवार रात जो हिंसा हुई, उसका एक नया वीडियो सामने आया है। वीडियो में दिख रहा है, लड़कियों का हुजूम गेट के अंदर की तरफ है और बाहर पुलिस जमा है। लड़कियां इस तरफ से पुलिसवालों के खिलाफ नारे लगाती हैं और पुलिस गेट की तरफ बढ़ती है। एक लड़की को छोड़कर बाकी की सभी लड़कियां अंदर की ओर भागती हैं। इतने में एक पुलिसवाला इस लड़की को धक्का देता है, जिससे वो गिर जाती है और फिर दो और पुलिसवाले उसे लाठी से मारते हैं। इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने भी कुछ मोटरसाइकलों में आग लगा दी।
अखिलेश का ट्वीट- बल से नहीं बातचीत से हल निकाले सरकार। बीएचयू में छात्रों पर लाठीचार्ज निंदनीय। दोषियों पर हो करवाई।
दिग्विजय का ट्वीट :  और यह तथाकथित हिन्दुत्व के ठेकेदार कन्याओं पर लाठी बरसा रहे हैं। मोदी और योगी को यह मांग मानने में क्या एतराज़ हो सकता है? बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ केवल एक नारा ही है क्या? हम हिन्दू तो नवरात्रि में कन्या भोज कराते हैं उनके पैर छूते हैं दान देते है यह हिंदुओं का धर्म है और परम्परा है।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.